गांव में निरन्तर अकाल एंव शहरो की तरफ पलायन से पशुओं की संख्या में भारी कमी आ गयी है। दुधारु पशुओं मे मुख्य रुप से गाय,भैस एवं बकरी पाली जाती है। खेती में उपयोग एवं मदद के लिए बैलो का प्रयोग किया जाता है पर उनमें भी भारी कमी आ चुकी है।
गा्रम पंचायत मे पशुओं के स्वास्थ के लिए एक पशु ‌‌‌उप स्वास्थ केन्द्र है जो राजकीय माध्यमिक विद्यालय कोशीवाडा के पास में स्थित है। इस उप स्वास्थ केन्द का निर्माण वर्ष 1997 मे ‌‌‌श्री हरिओम सिंह राठौड की अध्यक्षता एवं सुश्री गिरिजाव्यास सांसद उदयपुर के मुख्य आतिथ्य में हुआ था।
‌‌‌ उप स्वास्थ केन्द्र में मुख्य रुप से कृत्रिम गर्भाधान,नस्ल सुधार,नसबन्दी एवं टीकाकरण का कार्य कीया जाता है। वर्ष मे दो बार एच.स.,बी.क्यु. एवं ई.टी.वी का टीकाकरण कीया जाता है। प्रथम जुन जुलाई माह मे वर्षा ऋतु से पहले एवं दुसरा सितम्बर अक्टुम्बर माह में लगाया जाता है। यहां पशुओं मे मुख्य रुप से निमोनिया,मोसमी बुखार,आफरा आदि बिमारियों की शिकायत रहती हैं। औसतन 4-5 पशुओं का प्रतिदिन इलाज कीया जाता है तथा औसतन मासिक 30 से 40 पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान कीया जाता है।
वर्तमान में पशुऔषधालय में कर्मचारीयों की स्थिती निम्नानुसार है -
पदनामयोग्यताकोन्टेक्ट
‌‌‌पशुधन सहायक (L.S.A)रिक्त

 

18 वीं पशु जनगणना 2007 के अनुसार ग्राम पंचायत में पशुओं की स्थिती निम्नानुसार है -
वर्षगायबैलभैसभैंसाभेडबकरीअन्यकुल योग
कोशीवाडा172145417220963731792
मोखाडा7311034930076301318

 

पशु ‌‌‌उप स्वास्थ केन्द्र समय
सुबहसांय
गर्मियों में 8 बजे से 12 बजे तक 5 बजे से 7 बजे तक
सर्दियों में 9 बजे से 1 बजे तक 4 बजे से 6 बजे तक

 

पशुपालन से सम्बन्धित जानकारी एंव समस्याओं के समाधान के लिए पशु औषधालय कोशीवाडा के साथ साथ निम्न अधिकारीयों से सम्पर्क कीया जा सकता है -
पदनामकार्यालय पताकोन्टेक्ट
उपनिदेशकश्री एस.एस. चन्द्रावत पशुपालन विभाग राजसमन्द