News
Submitted by Surendra Purohit on 2014-01-31 08:06:44
Post News | Show All News

सर्दी में गांवो का व्यन्जन दाल ढोकला

मेरीजन्मभूमि सर्दी में गांवो में बनने वाले व्यन्जन में दाल ढोकलो का विशेष स्थान रहता हैं। सप्ताह में एक दो बार तो दाल ढोकले बन ही जाते है। ढोकले के साथ तिल्ल का तेल और गुड इस भोजन का स्वाद और बढा देते हैं। हालाकी तिल्ल का तेल मंहगा हो जाने से ढोकलो के साथ कम ही दीखाई देता हैं। तिल्ल का भाव ही 200 से 250 रुपये कीलो चल रहा हैं तो तेल के तो क्या कहने। गुड की बात करे तो अभी गांव में भरमार है। गुड 25 से 35 रुपये कीलो में आसानी से मिल रहा हैं। गांवो के खेतो में अभी गन्नो की फसल लहलहा रही हैं और इन्ही दिनो नया गुड भी बनता हैं तो वो भी मिल जाता हैं। दाल ढोकलो के भोजन में ये सभी हो तो खाने का स्वाद गजब का होता हैं।